To subscribe By E mail

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile

Tuesday, July 23, 2013

"निरंतर" की कलम से.....: सब कुछ समझ कर भी नासमझ बनता रहा

"निरंतर" की कलम से.....: सब कुछ समझ कर भी नासमझ बनता रहा: सब कुछ समझ कर भी नासमझ बनता रहा सच को झूठ झूठ को सच कहता रहा रिश्तों को निभाने के खातिर दुश्मनों को दोस्त कहता रहा काले चेह...

No comments: